कैसे करे अपना लैपटॉप अपग्रेड खुद के द्वारा

0
12
  • यदि आप अपना लैपटॉप बदलने की सोच रहे हो तो ये पोस्ट आपके काम की हो सकती है
  • आप कैसे अपने लैपटॉप को अपग्रेड करके उसे स्क्रैप होने से बचा पायंगे

क्यों करे अपग्रेड

यदि आपका लैपटॉप कुछ साल पुराना हो गया है, और वो वक़्त के साथ धीमा हो गया है, तो आपको उसे बदलने की जरूरत नहीं है अब टाइम है उसे अपग्रेड करने का, लैपटॉप को अपग्रेड करना एक बहेतर आप्शन होगा बजाये इसके की आप अपनी बैंक सेविंग ब्रेक करो, कुछ हज़ार रूपये खर्च करके इसे आप दुबारा से पावरफुल बना सकते हो, तब तक जब तक आपको पूरी तरह से नए की आवश्यकता ना हो, या फिर नए लैपटॉप के लिए आपका बजट आपको इज़ाज़त नहीं देता

क्या मैं अपना लैपटॉप अपग्रेड कर सकता हु

आपका लैपटॉप जितना पुराना होगा उस मैं बदले जा सकने वाले पार्ट्स की संभावना भी उतनी ही अधिक होगी, क्यूंकि पुराने लैपटॉप मैं पार्ट्स आसनी से निकलने वाले व आसनी से लगने वाले होते है, बजाये इसके जो नए लैपटॉप आते है, उनके पार्ट्स मदरबोर्ड पर चिपके होते है टांके द्वारा, और ऐसा इसलिए होता है, नए आने वाले लैपटॉप को पतला और सुंदर बनाए के लिए, तो आप अपना लैपटॉप अपग्रेड कर सकते हो

क्या मैं खुद से लैपटॉप अपग्रेड कर सकता हु

लैपटॉप को खुद से अपग्रेड के लिए सबसे पहले आपको लैपटॉप के निचे वाले हिस्से को देखना होगा, क्या वो आसानी से खुल सकता है, जिससे की आप रैम, हार्डडिस्क, बैटरी और अपग्रेड किये जाने वाले पार्ट्स तक आसनी से पहुचे सको, इसके बाद अपने लैपटॉप का मॉडल इन्टरनेट पर डालकर दखे किन हिस्सों को आसानी से बदला जा सकता है, इसके लिए आपको इन्टरनेट पैर ढेरो विडियो मिल जायंगी

आप किन हिस्सों को अपग्रेड कर सकते हैं

सामान्यता आप लैपटॉप के तीन हिस्सों को आसनी से बदल सकते है

रैम

हार्डडिस्क

बैटरी

और हार्डवेयर जैसे CPU और GPU को बदला आसन नहीं होता

अपग्रेड शुरु करने से पहले हार्डडिस्क का बैकअप ले

अपग्रेडेशन करने से पहले, सबसे पहला काम अपनी ड्राइव और विंडो का बैकअप ल ले, अगर अपग्रेड करते वक़्त कुछ गलत होता है तो हम अपनी पूरानी विंडो मैं वापिस लोट सकते हैं, यदि आप लैपटॉप की हार्डडिस्क को सॉलिड स्टेट डिस्क से बदल रहे हो, आपको विंडो का बैकअप जरुर लेना होगा, वैसे इसके और कई रस्ते भी है,

लैपटॉप की रैम को अपग्रेड करना

अधिकतर लैपटॉप मैं एक या दो रैम स्लॉट होते है, जिन मैं आमतोर पर एक रैम लगी होती है, या फिर दोनों स्लॉट मैं भी रैम हो सकती है, लैपटॉप की रैम खरीदने से पहले, कुछ जानकारी आपको लैपटॉप के बारे मैं संग्रहित करना होगा, और वो कैसे करंगे, इसके लिए आपको जिस कंपनी का लैपटॉप है उसकी वेबसाइट पर जाना होगा और आपके लैपटॉप का मॉडल डालकर सर्च करना होगा,लैपटॉप मैं कोनसी रैम साथ मैं दे रहे है, और वो कोंस मॉडल मैं आ रही है जैसे (DDR1, DDR2…. DDR5) जायदा करके वो ही रैम बेस्ट होती जो लैपटॉप मैं लगी आती है, उसी रैम का बड़ा VARIENT आप ऑनलाइन या ऑफलाइन ले सकते हो, रैम लेन से पहले उसके GHZ मैच कर लेने चाहिए

दूसरा तरीका ये लैपटॉप मैं जो प्रोसेसर लगा हुआ है, उसे इन्टरनेट पर डालकर ये दखे पायंगे की वो कितने Ghz की और कितनी GB की रैम सपोर्ट करता है, और कोनसा मॉडल, तब हम रैम लेने मैं आसनी होगी.

हार्डडिस्क को बदले सॉलिड स्टेट ड्राइव से

लैपटॉप को बूस्ट करने के लिए सबसे जरुरी काम है, लैपटॉप मैं सॉलिड स्टेट ड्राइव लगाये इससे आपके लैपटॉप की स्पीड पहले से दस गुना हो जाएगी, लेकिन सॉलिड स्टेट ड्राइव काफी महंगी आती है, तो इसके लिए आप ऐसा कर सकते है, 120 GB या 240 GB की सॉलिड स्टेट ड्राइव लगाये जो की काफी महंगी नहीं आती, जिसमें आप ओपेरटिंग सिस्टम और काम आने वाले प्रोग्राम डाल सकते है, लकिन फिर दूसरी सम्यासा ये रहे जाती है स्टोरेज जयादा चाहिए और लैपटॉप से निकली हार्ड डिस्क का क्या करे, तो आप लैपटॉप से निकली हार्ड डिस्क को दो तरह से काम मैं ले सकते हैं, पहला इसे पोर्टेबल हार्डडिस्क बना ले जिसके लिए मार्किट मियन केस मिलते हैं, और या फिर इसे cd-rom की जगहे caddy की मदद से लैपटॉप मैं लगा सकते हैं. जिससे आपके लैपटॉप SSD और HDD दोनों मोजूद रहंगी.

तो इस तरह से आप अपने लैपटॉप को अपग्रेड कर सकते हैं, आपको ये पोस्ट कैसा लगा कमेंट मैं जरुर बताये, या फिर आपके पास इस पोस्ट को लेकर कुछ सुझाव हो तो वो बताये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here